कदम 14: गुरु के चरणों में बैठना

क्या आप तैयार हैं इस सफर में आगे बढ़ने के लिए जो हम ने शुरू किया था अपने प्रभु के साथ | मैं तैयार हूँ, अगर आप भी तैयार हैं तो चलो चलते हैं |हमने उनके अद्भुत कार्यों को देख लिया, अब उनके चरणों के पास बैठ कर सुनेंगे वे हमसे क्या कहना चाहते हैं |कई लोग उनके पास आते हैं, उनके सन्देश सुनने के लिए | वे कई सत्य अपने और अपने पिता के बारे में सिखाते हैं | वे अक्सर दृष्टांतों में बातें करते हैं ताकि साधारण लोग भी समझ सकें |

वे कहते हैं ,“मैं और मेरा पिता एक हैं “ – यह स्पष्ट करते हैं कि वह परमेश्वर का  बेटा है और वह परमेश्वर के साथ बराबर है |वे कहते हैं: “मैं मार्ग, सत्य, और जीवन हूँ |  बिना मेरे द्वारा कोई पिता के पास नहीं पहुंच सकता” – स्पष्ट रूप से हमसे कहते हैं कि परमेश्वर तक पहुँचने के लिए  वे ही एक मात्र रास्ता हैं |प्रभु यीशु जहाँ भी जाते थे उनके  आसपास हमेशा लोग इकट्टा होते जाते थे | वे  उन्हें कई सत्य सिखाते थे, अक्सर कहानियों का उपयोग कर के, दृष्टान्तों द्वारा |  साधारण लोग यह सत्य आसानी से समझ सकते थे |वे उन्हें सिखाते थे कि सांसारिक रास्ते के विपरीत परमेश्वर की राह पर जीना चाहिए |

वे कहते हैं:

  • “मैं ने तुम्हें माफ किया | जिसने भी आप को दुःख पहुँचाया है, आपको भी उन्हें माफ कर देना चाहियें “|
  • “अपने दुश्मनों को प्यार करो, उनके साथ भला करो, और उनके लिए प्रार्थना करो “
  • “यदि आप परमेश्वर के राज्य में सबसे बड़ा होना चाहते हो, तो पहले सब से छोटे बन जाओ “
  • “मैं सेवा करने के लिए आया हूँ, बिलकुल मेरे जैसे एक सेवक बन जाओ”
  • “एक दुसरे से प्यार करो, जैसे मैं ने आप से किया”

हमारा ह्रदय भर उठता है जब हम उन्हें सुनते हैं और फिर हम उन्हें छोड़ना नहीं चाहते हैं|

प्रार्थना: ” प्रभु यीशु, मैं आपका धन्यवाद करता हूँ कि आपने हमें सिखाया कि आपके शिष्य बनकर हमें कैसे जीना चाहिये |मुख्य वचन: “धन्य वे हैं, जो परमेश्वर का वचन सुनते और मानते हैं “‍।

Leave a Reply

Your email address will not be published.