कदम 30: साक्षी – मैं पूरी दुनिया से कहना चाहता हूँ

परमेश्वर का प्यार प्रभु यीशु के रूप में आया है l मैं दुनिया को बताना चाहता हूँ कि यह खुशी का समाचार है l     

पहले पाठों में हम देखते हैं, कि परमेश्वर ने हमें जीवन दिया, जब हम अपने आप को उनके हवाले करते देते हैं और उनके पीछे चलने लगते हैं l

  • प्रभु यीशु के बिना मैं खोया हुआ था l उनकी संगति जब मुझे मिली तब मैं बच गया और सुरक्षित हो गया l
  • प्रभु यीशु के बिना मेरा दिल गन्दा और पाप के अँधेरे में था l जब मैंने अपने दिल  में उनको जगह दी उन्होंने पाप से दूर रहने के लिए मेरी मदद की l
  • प्रभु यीशु के बिना मैं अँधेरे में लडख़ड़ा रहा था, अब उनके साथ मैं रौशनी में चल  रहा हूँ l
  • प्रभु यीशु के बिना मुझे रास्ते का पता नहीं था l अब वे मेरे मार्गदर्शक हैं, और वे मुझे रौशनी में चलाते  हैं l
  • प्रभु यीशु के बिना मैं पापों में मरा हुआ था l अब उनके साथ में जीवित हूँ और नित्य जीवन में हूँ l
  • प्रभु यीशु के बिना परमेश्वर मेरा  न्यायाधीश था, अब वह मेरा स्वर्गीय पिता है l पहले यीशु के बिना मेरे दोस्त मुझे छोड़ देते थे, अब प्रभु यीशु स्वयं मेरे दोस्त हैं l
  • प्रभु यीशु के बिना मैं आंधी से डर जाता था, अब उनके साथ मैं सुरक्षित हूँ और वे मुझे कभी नहीं छोड़ते हैं l
  • प्रभु यीशु के बिना मैं अशांत था, अब मुझे पूर्ण शांति मिलती है हर परिस्थिति में l
  • यीशु मसीह के बिना कुछ पल कि खुशियाँ थीं, अब उनके साथ मुझे हर वक्त खुशी मिलती है l

यीशु मसीह के बिना मैं शैतान की पकड़ में था, अब मैं आजाद हूँ l यीशु मसीह में मुझे प्यार और आशीर्वाद मिला है, अब मैं स्वर्ग के रास्ते में हूँ l परमेश्वर ने मेरे जीवन को दिशा दी है l वे चाहते हैं कि मैं सब लोगों को उनके बारे में बताऊँ l परमेश्वर का अद्भुत प्यार सब के लिए है l  जब हम उनके पास आएंगे तो वे हमें नया जीवन देंगे जिस के बारे में हम सोच भी नहीं सकते हैं l

प्रार्थना : प्रभु यीशु, आप मेरी मदद कीजिये कि मैं आपके प्यार और सुसमाचार एवं मुक्ति के बारे मे सबको बताऊँ l 

Leave a Reply

Your email address will not be published.